Monday, 13 July 2015

Best Poems By Gulzar in Hindi - Gulzar Ki Kavitayen Hindi Mein, Short Poems, Triveni

 Best Hindi poems by Gulzar Sahaab, here is the list of best Hindi poems by Gulzar

Triveni Short Poems by Gulzaar

 गोले, बारूद, आग, बम, नारे
बाज़ी आतिश की शहर में गर्म है
बंध खोलो कि आज सब "बंद" है

रात के पेड़ पे कल ही तो उसे देखा था -
चाँद बस गिरने ही वाला था फ़लक से पक कर
सूरज आया था, ज़रा उसकी तलाशी लेना

भीगा-भीगा सा क्यों है अख़बार
अपने हॉकर को कल से चेंज करो
"पांच सौ गाँव बह गए इस साल"

चौदहवें चाँद को फिर आग लगी है देखो
फिर बहुत देर तलक आज उजाला होगा
राख हो जाएगा जब फिर से अमावस होगी

सब पे आती है सब की बारी से
मौत मुंसिफ़ है कम-ओ-बेश नहीं
ज़िंदगी सब पे क्यों नहीं आती ?

कौन खायेगा ? किसका हिस्सा है
दाने-दाने पे नाम लिख्खा है
सेठ सूद चंद, मूल चंद जेठा

उड़ के जाते हुए पंछी ने बस इतना ही देखा
देर तक हाथ हिलती रही वह शाख़ फ़िज़ा में
अलविदा कहने को ? या पास बुलाने के लिए ?

क्या पता कब कहाँ मारेगी ?
बस कि मैं ज़िंदगी से डरता हूँ
मौत का क्या है, एक बार मारेगी

2.Din Kuch Aise Guzarta Hai Koi

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई


दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई
आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई
पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई
फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई
देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई ।

Mujh Ko Bhi Tarkeeb Sikha Uaar Julahe

मुझको भी तरकीब सिखा यार जुलाहे


अकसर तुझको देखा है कि ताना बुनते
जब कोइ तागा टुट गया या खत्म हुआ
फिर से बांध के
और सिरा कोई जोड़ के उसमे
आगे बुनने लगते हो
तेरे इस ताने में लेकिन
इक भी गांठ गिराह बुन्तर की
देख नहीं सकता कोई
मैनें तो ईक बार बुना था एक ही रिश्ता
लेकिन उसकी सारी गिराहे
साफ नजर आती हैं मेरे यार जुलाहे

1 comment: